वेदांत ने गोल्फ की प्रतियोगिता में किया नाम रोशन

भारतीय गाॅल्फ की जूनियर श्रेणी के उदीयमान सितारे दिल्ली के वेदांत सिरोही ने भारतीय गाॅल्फ यूनियन (IGU) द्वारा पंचकूला गोल्फ कोर्स में 15 से 19 फरवरी के बीच आयोजित की गई प्रथम amateur क्वालीफायर प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन करते हुए 16 वर्ष की उम्र में क्वालीफाई किया । वेदांत ने इस प्रतियोगिता में सभी उम्र के 160 से अधिक खिलाड़ियों के बीच 4 दिन तक चले जबरदस्त संघर्षपूर्ण मुकाबले में 16 वाॅ स्थान प्राप्त कर यह उपलब्धि अर्जित की.


प्रतियोगिता के स्तर तथा खिलाड़ियों के बीच क्वालीफाई करने के संघर्ष की कहानी इस बात से उजागर होती है की पहले राउंड में 160 खिलाड़ियों में से केवल 60 अगले राउंड में गए। फिर दूसरे राउंड में इन 60 खिलाड़ियों में से केवल 40 तीसरे राउंड में गए और अंत में इन
40 खिलाड़ियों में से केवल 20 ने क्वालीफाई किया.

वेदांत सिरोही, जोकि कक्षा 12 का छात्र है, ने गाॅल्फ को ही अपना करियर बनाने का निर्णय किया है । प्रारंभिक वर्षों में क्रिकेट में प्रशिक्षण लेने के बाद वेदांत ने गोल्फ के खेल में रुचि दिखानी शुरू की और पिछले 4 वर्षों में तेजी से सफलता की सीढ़ियां चढ़ी। IGU के 2017 के जूनियर फीडर टूअर के नॉर्थ जोन में तीसरा स्थान प्राप्त करने के उपरांत उसने ऑल इंडिया स्तर पर दूसरा स्थान प्राप्त किया। अगले ही वर्ष IGU जूनियर मैन टूअर में वेदांत ने B कैटेगरी में 5वाॅ स्थान प्राप्त किया, और पहली बार A कैटेगरी में खेलते हुए 2019 में 11वाॅ स्थान अर्जित किया । और अब पहली ही बार में एमेच्योर श्रेणी में क्वालीफाई करने में सफलता प्राप्त की। IGU की विभिन्न प्रतियोगिताओं में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने की साथ साथ वेदांत ने अन्य टूर्नामेंटों में भी उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है.

अलबाट्रौस गोल्फ टूर्नामेंट्स में कई बार विजयी होकर उसने आर्डर ऑफ मेरिट में प्रथम स्थान हासिल किया और दो बार अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में भागीदारी करने के लिए भी चुना गया। वेदांत के पिताजी रेलवे में कार्यरत हैं परंतु सीमित संसाधनों के होते हुए भी इस 16 वर्ष के बच्चे ने संसाधनों की कमी को कभी अपने लक्ष्य के सामने नहीं आने दिया । तथा अपने अथक परिश्रम द्वारा अनेकों उपलब्धियां हासिल की हैं.

वेदांत के उत्कृष्ट प्रदर्शन एवं उसकी प्रतिभा को देखते हुए उसे दिल्ली गोल्फ क्लब ने लगातार 2 वर्षों तक कैंप फॉर एक्सीलेंस के लिए भी चुना जिसमें निशुल्क कोचिंग, फिटनेस तथा खेलने की सुविधा प्रदान की जाती है। वेदांत को 2018 में दिल्ली गोल्फ सोसाइटी ने टैलेंट अवार्ड से भी सम्मानित किया.

वेदांत का लक्ष्य 2024/25 ओलंपिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करना है. भारत में जहां एक ओर खेल को करियर की तरह से लेने के लिए परिवारों में संकोच होता है और अधिकांश उदीयमान खिलाड़ी संसाधनों की कमी की वजह से बीच में ही अपने खेलों के प्रति लगाव को छोड़कर अन्य व्यवसाय की ओर जाने के लिए विवश हो जाते हैं वहां वेदांत जैसे खिलाड़ी जो खेल को कैरियर की तरह से लेकर देश का नाम रोशन करना चाहते हैं उन्हें हर तरह की सुविधा वह संसाधन उपलब्ध कराने की आवश्यकता है जिससे कि वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी देश का नाम रोशन कर सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *