Coronavirus: केरल में एक दिन में 22056 नए केस, लेकिन मीडिया में रहस्यमयी चुप्पी!

देश जहां कोरोना की दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर से निपटने की तैयारी कर रहा है तो केरल में कोरोना के केसों की बेतहाशा बढ़ोत्तरी हो रही है. जिस दिन से कोरोना संक्रमण की शुरुआत हुई यह राज्य हमेशा से ही पहले या दूसरे नंबर पर बना हुआ है. लेकिन हैरत की बात ये है कि इस राज्य को लेकर मीडिया में एक खास तरह की चुप्पी है इतना ही नहीं कोरोना के रोगियों की संख्या भले ही इस राज्य में बढ़ती रही लेकिन यहां की मेडिकल सुविधाओं का बखान जारी रहा है.

इसकी खास वजह यह भी हो सकती है कि यहां पर पी. विजयन की अगुवाई में वामपंथी सरकार चल रही है और मीडिया में अहम पदों पर बैठे वामपंथ की झुकाव रखने वाले पत्रकारों ने सच्चाई बताने के बजाए प्रोपेगेंडा फैला रखा है.

इतना ही नहीं दूसरी लहर के दौरान यूपी में जिस तरह श्मशानों से तस्वीरें दिखाई जा रही थीं केरल से वैसी खबरें नहीं आ रही हैं जबकि एनडीटीवी की ओर से दिए गए आंकड़ों की मानें 28 जुलाई को केरल में 22 हजार नए केस आए मिले और 131 लोगों की मौत हुई है. केरल में अभी 1,49,534 सक्रिय केस हैं.

वहीं महाराष्ट्र में भी बीते 28 जुलाई को 6 हजार से ज्यादा केस आए हैं और 286 लोगों की मौत हुई है. गौरतलब है कि यहां पर कांग्रेस-एनसीपी के समर्थन से शिवसेना की सरकार है. इस राज्य की सरकार से भी मीडिया मुगल सवालों से कतरा रहे हैं.

वहीं पूरे देश में कोरोना के कुल केसों की संख्या में एक बार फिर से उछाल देखा गया है. 28 जुलाई को 43,654 केस सामने आए हैं. जिसमें 22 हजार से ज्यादा केस सिर्फ केरल से हैं. यहां यह भी बताना जरूरी है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी केरल के वायनाड से सांसद भी हैं.

बात सिर्फ इतनी ही नहीं है हाल ही में कांवड़ यात्रा को लेकर यूपी की योगी सरकार पर कई सवाल उठाए गए थे लेकिन केरल की सरकार ने बकरीद पर तीन दिन की छूट दे दी थी जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने भी हिदायत दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *