कहां हो सरकार! रायबरेली-कानपुर सड़क पर एक बार आप भी चलकर देखिए

साल 2017 में जब उत्तर प्रदेश में सीएम योगी की अगुवाई बीजेपी की सरकार बनी तो लगा था कि उन्नाव-रायबरेली मार्ग के दिन बहुर जाएंगे लेकिन लगभग साढ़े चार साल बीत चुके हैं लेकिन ये सड़क अभी तक ठीक नहीं जा सकी है. आपको बता दें कि ये रास्ता रायबरेली को कानपुर और उन्नाव जिले को जोड़ता है और इस पर सैकड़ों वाहन गुजरते हैं.

लोगों का कहना है कि रायबरेली से कानपुर में पहुंचनें में 3 घंटे से ज्यादा नहीं लगते हैं लेकिन रास्ता खराब होने की वजह से 5 से 6 घंटे लग जाते हैं. बीते 20 सालों में ये सड़क 3-4 बार दुरुस्त की जा चुकी है लेकिन इस ठेकेदारों और अधिकारियों की मिलीभगत के चलते ये कुछ सालों में उखड़ गई.

हर बार बरसात में इस सड़क की हालत खराब हो जाती है और प्रशासन गड्ढों में मिट्टी और गिट्टी डालकर खानापूर्ति कर लेता है. इस सड़क से गुजरने वाले लोगों की हालत खराब है. कई लोग तो रायबरेली से लालगंज पहुंचते हैं फिर फतेहपुर वाले रास्ते से कानपुर की ओर जाते हैं. लेकिन उन्नाव जाने के लिए इस रास्ते के सिवाए कोई दूसरा विकल्प नहीं है.

वहीं सरकारी बसें चलाने वाले ड्राइवरों ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि इस सड़क पर रोज चलना किसी मानसिक यातना से कम नहीं है. हालांकि कुछ जगहों पर गिट्टी और सड़क बनाने का मटेरियल पड़ा हुआ है जिसको देखकर उम्मीद जगती है कि शायद जल्द ही इस पर काम शुरू हो जाए. लेकिन उनका ये भी कहना है कि ये सामना सड़क के किनारे सालें से पड़ा हुआ है. इस सड़के आसपास बसे लोगों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से अपील की है कि वो इस सड़क को बनवाने के लिए अपने स्तर पर कार्रवाई करें और जिन लोगों की वजह से इस सड़क के बनने में देरी हुई उन पर एक्शन लें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *